Nation express
ख़बरों की नयी पहचान

रिया चक्रवर्ती को ‘औकात’ बताकर विवादों में फंसे BIHAR DGP गुप्तेश्वर पांडेय,

0 300

पटना:-  बिहार पुलिस के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ‘औकात’ शब्द बोलकर विवादों में फंस गए हैं। 19 अगस्त को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच सीबीआई से कराने के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट की मुहर लगने के बाद गुप्तेश्वर पांडेय मीडिया से बात कर रहे थे। इसी दौरान जब उनसे पूछा गया कि अभिनेत्री और सुशांत की कथित गर्लफ्रेंड रही रिया चक्रवर्ती बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर गंभीर आरोप लगा रही है इसपर आप क्या कहेंगे? इस पर गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि रिया चक्रवर्ती की औकात नहीं है कि वह सीएम नीतीश कुमार पर कोई कॉमेंट करे। डीजीपी की जुबान से निकले औकात शब्द की निंदा हो रही है। सोशल मीडिया पर लोग डीजीपी के पद को देखते हुए इस तरह के शब्द का प्रयोग करने के लिए उनकी निंदा कर रहे हैं।

पत्रकारों के दोबारा पूछने पर गुप्तेश्वर पांडेय ने अपने बयान को दोहराया और कहा था कि रिया चक्रवर्ती की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आलोचना करने का कोई अधिकार नहीं है। औकात शब्द को सोशल मीडिया पर लोग भद्दा और गलत बता रहे हैं।  ‘औकात’ शब्द को अंग्रेजी में stature कहते हैं, जिसका असल मतलब कद या हैसियत होता है। यानी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती की हैसियत नहीं है कि वह बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कोई टिप्पणी करे। न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि सुशांत सिंह राजपूत केस में रिया चक्रवर्ती एक आरोपी है। रिया का नाम बिहार पुलिस और सीबीआई दोनों के एफआईआर में है।

- Advertisement -

gupteswer-panday

गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि अगर कोई राजनेता बिहार के मुख्यमंत्री पर कोई टिप्पणी करता है, तो मैं इस पर कुछ भी कहने वाला नहीं हूं। लेकिन अगर कोई आरोपी बिहार के सीएम पर कुछ बेबुनियाद टिप्पणी करता है तो यह आपत्तिजनक है। यहां आपको बता दें कि रिया चक्रवर्ती ने कोर्ट में आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी राजनीतिक ताकत का इस्तेमाल करते हुए सुशांत केस को तूल दे रहे हैं।

Celebs62सुप्रीम कोर्ट के सुशांत सिंह आत्महत्या मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने के आदेश को बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय ने अन्याय के खिलाफ न्याय की जीत बताया है। उन्होंने कहा इस फैसले से मैं व्यक्तिगत रूप से बहुत खुश हूं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पांडेय ने यहां पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि इस मामले में शुरू से ही बिहार पुलिस संवैधानिक और कानूनी तरीके से काम कर रह थी लेकिन बिहार पुलिस पर आरोप लगाए गए थे।

 

अब सुप्रीम कोर्ट ने बिहार पुलिस के द्वारा किए गए संवैधानिक कामों को उचित ठहराते हुए उस पर मुहर लगा दी है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से अदालत के प्रति लोगों की आस्था और बढ़ेगी तथा इस मामले में सुशांत के परिजनों को न्याय मिलेगा।

डीजीपी ने स्पष्ट कहा कि इस मामले में मुंबई पुलिस प्रारंभ से ही गलत कर रही थी।उन्होंने लोगों से धीरज रखने की अपील करते हुए कहा कि अब इस मामले में जांच के परिणाम का इंतजार करना चाहिए। उल्लेखनीय है कि सशांत ने कथित तौर पर 14 जून को अपने मुंबई आवास पर आत्महत्या कर ली थी। इसके बाद उनके पिता के. के. सिंह ने 25 जुलाई को पटना के राजीवनगर में एक मामला दर्ज करवाया था। बाद में बिहार सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच के लिए अनुशंसा की थी।

 

Report By :- MUSKAN SINGH/ Aaliya Alisha,  NATION EXPRESS Entertainment DESK

Leave A Reply

Your email address will not be published.

GA4|256711309