Nation express
ख़बरों की नयी पहचान

मुख्तार अंसारी का जनाजा निकला : प्रिंस टॉकीज मैदान पर पढ़ी गई नमाज-ए-जनाजा, किये गये सुपुर्द-ए-खाक, बेटे उमर ने डाली पहली मिट्टी

0 312

NATIONAL DESK, NATION EXPRESS, गाजीपुर (UTTAR PARDESH)

मुख्तार अंसारी को गाजीपुर के कालीबाग कब्रिस्तान में दफन किया गया। गाजीपुर में मुख्तार के पैतृक घर के बाहर बड़ी संख्या में भीड़ जुटी है। पुलिस ने गाजीपुर में सुरक्षा बढ़ा दी है। जगह-जगह बैरिकेडिंग की गई है। मुख्तार उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में बंद था। 28 मार्च की रात उसे बेहोशी की हालत में रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज लाया गया था। 9 डॉक्टर्स ने उसका इलाज किया, पर मुख्तार को बचाया नहीं जा सका।

कालीबाग कब्रिस्तान के लिए मुख्तार अंसारी जनाजा रवाना हो गया है। 2 हजार से ज्यादा लोग इसमें शामिल हुए हैं। कब्रिस्तान के रूट पर पुलिस की तैनाती है। - Dainik Bhaskar

- Advertisement -

मुख्तार कई बार कह चुका था कि जेल में उसे मारने की साजिश की जा रही है। उसे जहर दिया जा रहा है। ढाई घंटे चले पोस्टमार्टम के बाद मुख्तार की मौत की वजह कार्डियक अरेस्ट बताई गई। मुख्तार का शव शुक्रवार की रात 1 बजकर 15 मिनट पर गाजीपुर स्थित पुश्तैनी घर लाया गया।

कालीबाग कब्रिस्तान के पास 500 से ज्यादा लोग मौजूद हैं। पुलिस की भी तैनाती है। अधिकारी भी मौजूद हैं।

Mukhtar Ansari Funeral live:  कब्रिस्तान पहुंचा मुख्तार का जनाजा, कुछ देर में होगा सुपुर्द-ए-खाक

Mukhtar Ansari Death Live: लोगों के आंखों का आंसू ने साबित कर दिया मुख्तार अंसारी क्या थे- पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी

पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी ने कहा कि यहां मौजूद लोगों के आंखों का आंसू और मौजूद भीड़ ने साबित कर दिया है कि मुख्तार अंसारी उनके लिए क्या थे. अब किसी को कुछ कहने की जरूरत नहीं है.

Mukhtar Ansari Death Live: मुख्तार के समर्थकों की नारेबाजी, हटाए गए मीडियाकर्मी

मुख्तार अंसारी के समर्थक नारेबाजी कर रहे हैं. उनके घर आए मीडिया को हटाया जा रहा है. वहां समर्थकों की भारी भीड़ जुटी हुई है.

Watch: अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने पहुंचा शहाबुद्दीन का बेटा ओसामा

प्राप्त जानकारी के अनुसार, बिहार से कई लोग भी ओसामा के साथ जनाजे में शामिल होने के लिए मुख्तार अंसारी के घर पहुंचे हैं. ऐसा कहा जाता है कि बिहार के माफिया शहाबुद्दीन से मुख्तार के करीबी संबंध थे. यही कारण है कि शहाबुद्दीन के इस दुनिया में न होने पर भी आज उनका बेटा पिता के दोस्त के जनाजे में शामिल होने के लिए पहुंचा है. मालूम हो कि 1 मई, 2021 को शहाबुद्दीन ने  दिल्ली के दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में आखिरी सांस ली थी.

UPTAK

Report By :- AFSHA ANJUM / SHEETAL SINHA, NATIONAL DESK, NATION EXPRESS, गाजीपुर (UTTAR PARDESH)

Leave A Reply

Your email address will not be published.

GA4|256711309