Nation express
ख़बरों की नयी पहचान

अपने हुस्न के जाल में आईपीएस से लेकर नेताओं को फंसा कर अपनी उंगलियों में नचाने वाली तुपुदाना ओपी प्रभारी मीरा सिंह सस्पेंड : SSP ने की करवाई

0 1,263

CITY DESK, NATION EXPRESS, RANCHI

 

दबंगई व भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों से घिरी थीं मीरा सिंह, ईडी की छापेमारी में भी खुली पोल

डेढ़ साल बाद भी विभागीय कार्यवाही अंजाम तक नहीं पहुंची, बचाते रहे थे सीनियर अधिकारी

दबंगई व भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों से घिरी दारोगा मीरा सिंह

ईडी ने रांची के तुपुदाना ओपी की प्रभारी दारोगा मीरा सिंह व उनके करीबी जमीन कारोबारी लाल मोहित नाथ शाहदेव के ठिकानों पर छापेमारी की और छापेमारी के दूसरे दिन रांची के एसएसपी ने मीरा सिंह को लाइन हाजिर किया है। दबंगई व भ्रष्टाचार के आरोपों से लिप्त मीरा सिंह ने अब तक अपनी पहुंच व पकड़ की बदौलत मजबूती से थानेदारी करती रहीं हैं।

रांची के तुपुदाना ओपी की प्रभारी दारोगा मीरा सिंह व उनके करीबी जमीन कारोबारी लाल मोहित नाथ शाहदेव के ठिकानों पर हुई ईडी की छापेमारी के दूसरे ही दिन रांची के एसएसपी ने मीरा सिंह को लाइन हाजिर कर दिया है। दबंगई व भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों से घिरी मीरा सिंह ने अब तक अपनी पहुंच व पकड़ की बदौलत मजबूती से थानेदारी करती रहीं। उनकी पकड़ ऐसी कि बड़े-बड़े पुलिस अधिकारी भी उनपर कार्रवाई करने से हिचकते रहे।

- Advertisement -

इसका सबसे बड़ा उदाहरण उन पर लगे बर्बरतापूर्ण पिटाई के गंभीर आरोप हैं, जिसकी जांच में पुष्टि के बाद भी अब तक उनका कोई बाल बांका नहीं कर सका था। उनके विरुद्ध सदर के पूर्व डीएसपी प्रभात रंजन बरवार के संचालन में विभागीय कार्यवाही चल रही थी। डेढ़ साल से विभागीय कार्यवाही चलती रही, लेकिन अब तक पूरी नहीं हो सकी थी। इस बीच मीरा सिंह का कद बढ़ता चला गया। अपने से सीनियर अफसरों तक के स्थानांतरण-पदस्थापन तक में उनका नाम सामने आ चुका है। सभी बिंदुओं पर ईडी की जांच जारी है।

कांग्रेस नेताओं और तुपुदाना ओपी प्रभारी Meera Singh के ठिकानों पर ED की रेड  जारी - YouTube

रुपयों का हिसाब व लेन-देन, संदिग्ध वाट्सएप चैट पर भी होगा जवाब तलब

ईडी ने एक दिन पहले की गई अपनी छापेमारी में दारोगा मीरा सिंह व उनके करीबी लाल मोहित नाथ शाहदेव के ठिकाने से 12.50 लाख रुपये, मोबाइल, रुपयों के लेन-देन, संदिग्ध वाट्सएप चैट व कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किया था। जब्त दस्तावेजों का सत्यापन जारी है।

अब ईडी दारोगा मीरा सिंह व उनके करीबी लाल मोहित नाथ शाहदेव को समन करेगी और उन्हें पूछताछ के लिए ईडी कार्यालय बुलाएगी। दोनों ही आरोपितों से 12.50 लाख रुपये का हिसाब, रुपयों के लेन-देन की जानकारी, संदिग्ध वाट्सएप चैट का सत्यापन कराया जाएगा।

भ्रष्टाचार की आरोपित को कैसे देते रहे संरक्षण

ईडी बहुत जल्द ही दारोगा मीरा सिंह के वाट्सएप चैट व भ्रष्ट गतिविधियों से मिली जानकारियों से राज्य सरकार, डीजीपी, एसएसपी आदि को अवगत कराएगी। रांची पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को भी समन कर ईडी पूछताछ के लिए बुलाएगी और जानकारी लेगी कि कैसे वे विभिन्न आरोपों से घिरी इस महिला अधिकारी को संरक्षण देते रहे। किसके कहने पर उन्होंने उसे संरक्षण दिया। विभिन्न स्तरों पर चल रही जांच की रफ्तार कैसे थमी, किसके कहने पर थमी। इस पूरे खेल का असली रिंग मास्टर कौन था। ईडी अब दारोगा मीरा सिंह के माध्यम से उनके संरक्षकों, शरण देने वालों, भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वालों तक पहुंचेगी। जांच की आंच दूर तक जाने की संभावना है। रांची पुलिस के कुछ बड़े अफसरों की भी गर्दन अब फंसेगी, ऐसी संभावना बन रही है। दारोगा मीरा सिंह के कुछ और सहयोगी जांच के घेरे में आएंगे।

तुपुदाना ओपी प्रभारी मीरा सिंह और उसके सहयोगी के ठिकानों पर इडी का छापा

ईडी को मिली बालू खनन से ढुलाई तक में हर कदम पर उगाही की जानकारी

ईडी की छापेमारी में दारोगा मीरा सिंह व जमीन कारोबारी सह कांग्रेस नेता लाल मोहित नाथ शाहदेव के ठिकानों से मिले सबूतों का सत्यापन जारी है। ईडी को बालू खनन से ढुलाई तक में उगाही के बड़े नेटवर्क की जानकारी मिली है। बालू कारोबारियों से पुलिस-प्रशासन के हाथों उगाही का बड़ा खेल उजागर हुआ है। बालू घाट से डंपिंग यार्ड तक व डंपिंग यार्ड से उपभोक्ता तक पहुंचने में बालू कारोबारियों को कितने का चढ़ावा देना पड़ता है, यह राज धीरे-धीरे खुल रहा है।

चढ़ावे का पैसा कहां-कहां बंट रहा है, उसपर भी कुछ जानकारियां ईडी तक पहुंची है। पुलिस-प्रशासन की वसूली का ही नतीजा है कि बालू पर अवैध वसूली से अधिकारी मालामाल हैं और आम जनता परेशान रही।

तुपुदाना क्षेत्र में सरकारी जमीन की घेराबंदी से संबंधित सभी मामलों की जांच कर रही ईडी

ईडी को सूचना है कि तुपुदाना ओपी क्षेत्र में सरकारी जमीन की घेराबंदी कराई गई है। सूचना है कि दारोगा मीरा सिंह ने अपनी पावर की बदौलत वहां कुछ वरिष्ठ अधिकारियों के कहने पर विवादित जमीन पर चारदीवारी करवा दी। अब ईडी उन सभी जमीन के कागजात की जांच कर रही है। ईडी को उम्मीद है कि जमीन घोटाला प्रकरण में जांच में बड़गाईं अंचल के बाद नामकुम अंचल व तुपुदाना क्षेत्र में बड़े जमीन घोटाले का पर्दाफाश होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

GA4|256711309